कुछ इश़्क किया, कुछ काम किया- पीयूष मिश्रा. For people who think Hindi is Cliche.

“Kuch ishq kiya, kuch kaam kiya” is a very famous piece by undisputedly one of the best contemporary poets Sir Piyush Mishra. It was published in the book which goes by the same name.

What follows however is not originally written by Mishra, but is a humble tribute to Mishra ji.

वो काम भला क्या काम हुआ, कर जिसको नींद सी आ जाये…                                                               वो इश़्क भला क्या इश़्क हुआ जो रात का चैन ना खा जाये..

वो काम भला क्या काम हुआ,वो सबके बस की बात जो हो..                                                                  वो इश़्क भला क्या इश़्क हुआ, जो होता सबके साथ ही हो…

वो काम भला क्या काम हुआ, जिसमें न जुनून-ए-रवानी हो…                                                                  वो इश़्क भला क्या इश़्क हुआ, दो पल की जिसकी कहानी हो..

वो काम भला क्या काम हुआ, जिसमें न जी घबरा जाए.. वो इश़्क भला क्या इश़्क हुआ, जो दरिया को न खा जाये..

वो काम भला क्या काम हुआ, जो बैठ छाँव में हो जाए.. वो इश़्क भला क्या इश़्क हुआ, जिसमें सुरज न सो जाये..

वो काम भला क्या काम हुआ, जिसमें फुरसत की चाह रहे…                                                                 वो इश़्क भला क्या इश़्क हुआ जो फुरसत की मोहताज रहे..

वो काम भला क्या काम हुआ, जो बस अपने मतलब का हो..                                                                   वो इश़्क भला क्या इश़्क हुआ, वो मुर्शीद जो रब का न हो..

वो काम भला क्या काम हुआ, वो काम न सबके आए जो…                                                                 वो इश़्क भला क्या इश़्क हुआ,वो इश़्क का दुखड़ा गाए जो..

Advertisements

2 thoughts on “कुछ इश़्क किया, कुछ काम किया- पीयूष मिश्रा. For people who think Hindi is Cliche.”

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s